कपिल मिश्रा का बड़ा आरोप, दिल्ली में दवाइयों और एंबुलेंस की खरीद में 300 करोड़ का घोटाला

दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने एक बार फिर से केजरीवाल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कपिल ने मीडिया के सामने तीन बड़े घोटालों की बात कही है.कपिल मिश्रा ने कहा है कि सरकार के तीन बड़े घोटाले हेल्थ मिनिस्ट्री से जुड़े हुए है जिनकी जानकारी मेरे पास आयी है. 

सादिया-ढोला पुल लंबाई में बांद्रा-वर्ली सी-लिंक से भी 30 फीसदी ज्‍यादा, जानिए इसकी खासियतें

ये 300 करोड़ की दवाईयों का घोटाला है जो दवाएं खरीदी जा चुकी हैं लेकिन अस्पतालों में नहीं पहुंची हैं. कपिल ने आरोप लगाते हुए कहा है कि दूसरी एम्बुलेंस घोटाला और तीसरा ट्रांसफर और पोस्टिंग घोटाला भी हुआ है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल से मेरी कोई निजी लड़ाई नहीं है, ये दिल्ली की जनता की लड़ाई है. उन्होंने कहा है कि देश में सबसे ज्यादा बजट हेल्थ को देने वाली सरकार में आखिर दवाओं का टोटा क्यों नहीं , जबकि 250 आवश्यक दवाओं का अस्पतालों में टोटा है.

तीन साल के मौके पर मोदी सरकार का नया नारा – “साथ है विश्वास है, हो रहा विकास है”

अस्पतालों से दवाओं को खरीदने का अधिकार ख़त्म कर सीपीए को दिया गया, तरुण सीम को चार पोस्ट दिए गए , निरंतर साफ्टवेयर से पूरी खरीद की जाने लगी, इसके लिए तीन गोदाम बनाये गए, तीन से 6 महीने की दवाये पिछले साल एडवांस में खरीदी गयी लेकिन वे गोदामों में ही पड़ी रही अस्पतालों में नहीं गयी, 2 अगस्त 2016 को तरुण सीम ने अस्पतालों को दिए लेकिंन डायरेक्टर ने लिख कर दिया की उन्हें इन दवाओं की जरुरत ही नहीं थी.

आरोप लगाते हुए कपिल ने कहा है कि केजरीवाल, सत्येंद्र जैन, तरूण सीम ने मिलकर ये तीनों घोटाले किए हैं. मैं इन तीनों मामलों में एलजी से मिलकर उनसे हस्ताक्षेप की मांग करने जा रहा हूँ. मैं तीनों पर मैं एफआईआर दर्ज करवाऊंगा. 

Newseum.in से जुड़े रहने और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें.