अगर आप भी हैं मीठे के शौकीन तो वक्त रहते हो जांए सावधान!

हमारा खान पान हमारे लाइफस्टाइल पर असर करता है. हम जो रोजमर्रा के जीनव में खाते हैं वहीं, हमारे शरीर पर असर करता है. इसलिए खान-पान को लेकर आपको सावधान रहने की जरूरत होती है. 

जानें क्यों युवा नहीं ढूंढ रहे सेक्शुएल पार्टनर? ये हैं अहम कारण

ऐसे में आपको बता दें कि आप अगर चीजों को बार-बार भूल रहें हैं तो अपने खान-पान पर ध्यान देने की जरूरत है. क्योंकि एक शोध में सामने आया है कि मीठे ड्रिंक्स का इस्तेमाल करने से आपकी याददास कमजोर होती है. जी हां इस शोध की मानें तो आज के समय में हमें जब भी प्यास लगती है तो हम अकसर किसी भी तरह के मीठे ड्रिंक का प्रयोग अधिक करते हैं, लेकिन ये हमारे शरीर के लिए खतरा बन सकता है.

हाल ही में हुए एक शोध के जरिए पता चला कि मीठे ड्रिंक्स को इस्तेमाल करने से स्ट्रोक और डिमोंशिया होने का खतरा होता है। इसके अलावा मीठे ड्रिंक्स से मेमोरी लॉस होता है. शोध के मुताबिक बताया गया है कि मीठे ड्रिंक्स का इस्तेमाल करने से दिमाग मे आयतन की कमी, इससे हमारे सोटचने समझने की क्षमता तेजी से नष्ट होती है. साथ ही इस तरह के ड्रिंक के सेवन से हिप्पोकैम्पस छोटा हो जाता है.

अपने बेडरूम की ये बातें न करें किसी से शेयर,नहीं तो हो सकता है...

हिप्पाकैम्पस दिमाग का वह भाग है जो सीखने और स्मृतियों के लिए जिम्मेदार होता है. जबकि इस शोध से यह भी सामने आया कि जो लोग दिन में रोज सोडा पीते है उनमें स्ट्रोक्स और और डिमोंशिया को खतरा ज्यादा होता है। जबकि जो लोग मीठे ड्रिंक्स को नहीं पीते हैं उनमें यह खतरा तीन गुना कम होता है. बोस्टन विश्वविद्यलया के प्रमुख लेखक मैथ्यू पेस का कहना है कि हमे इस दिशा में अभी और भी काम करने की जरूरत है.

Newseum.in से जुड़े रहने और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें.